THE ADDA
THE ADDA: Hindi News, Latest News, Breaking News in Hindi, Viral Stories, Indian Political News

भारतीय मूल की अमिका जॉर्ज ने जीता सोशल वर्क का ऑस्कर

हज़ारों लड़कियाँ पीरियड की वजह से नहीं जा पाती स्कूल

51

अपने फ़्री पीरियड कैंपेन की वजह से पूरी दुनिया में चर्चा पानें वाली भारतीय मूल की लड़की अमिका जॉर्ज ने एक बहुत बड़ी उपलब्धि अपने नाम कर ली है। इसके साथ ही इन्होंने भारत का नाम भी रोशन किया है। जानकारी के अनुसार अमिका जॉर्ज को गोलकीपर्स ग्लोबल गोल अवॉर्ड 2018 से सम्मानित किया गया है। इस अवॉर्ड को सोशल वर्क के क्षेत्र का ऑस्कर Oscars for social progress) भी कहा जाता है। आपकी जानकारी के लिए बता दें गोलकीपर्स की शुरुआत अरबपति बिल गेट्स और मिलिंडा गेट्स के फ़ाउंडेशन ने 2017 में की थी।

 

की थी लड़कियों के लिए फ़्री सेनेटरी पैड की माँग:

amika george

इस अवार्ड समारोह में दुनिया के सबसे अमीर और महादानी व्यक्ति बिल गेट्स भी शामिल हुए थे। आपकी जानकारी के लिए बता दें जिस फ़्री पीरियड कैंपेन के लिए भारतीय मूल की लड़की अमिका जॉर्ज को यह अवॉर्ड दिया गया है, उस कैंपेन के तहत अमिका ने 2017 में हज़ारों लोगों को डाउनिंग स्ट्रीट में प्रदर्शन करने के लिए प्रोत्साहित किया था। उनके साथ अमिका ने स्कूल में पढ़ने वाली ग़रीब लड़कियों के लिए फ़्री सेनेटरी पैड की माँग की थी।

 

हज़ारों लड़कियाँ पीरियड की वजह से नहीं जा पाती स्कूल:

आपको बता दें अमिका की उम्र अभी केवल 18 साल है और यह इतनी छोटी उम्र में ही दुनिया की जानी-मानी सोशल एक्टिविस्ट बन गयी हैं। अमिका के कैंपेन के बाद यूके सरकार ने इस तरफ़ 1.5 मिलियन पाउंड की ग्रैंट देने की घोषणा की। बता दें अमिका के इस क्रांतिकारी कैंपेन की वजह से उन हज़ारों लड़कियों को मदद मिली जो पीरियड की वजह से स्कूल नहीं जा पाती थीं। इसके अलावा वह अनसेफ पीरियड के दर्द से भी गुज़रती थीं। जानकारी के अनुसार अमिका के ग्रैंड पैरेंट केरल से यूके आए थे। अमिका की पूरी ज़िंदगी वहीं पर गुज़री है।

 

यूके जैसे देश में लड़कियाँ पीरियड के दौरान करती हैं गंदे कपड़े का इस्तेमाल:

amika george

अमिका बताती हैं कि प्लान इंटरनेशनल की रिपोर्ट के अनुसार हर 10 में से एक लड़की यूके में पैड अफ़ोर्ड नहीं कर सकती है। उन्हें यह जानकर हैरानी हुई कि ऐसा यूके जैसे विकसित देश में हो रहा है। इस वजह से वहाँ लड़कियाँ न्यूज़पेपर, गंदे कपड़े, रुमाल, मोज़े आदि इस्तेमाल कर रही थीं। इससे महिलाओं के स्वास्थ्य पर बहुत बुरा असर पड़ रहा था। इसके लिए वहाँ की सरकार भी कुछ नहीं कर रही थी। बता दें उनके अलावा यह अवार्ड इस्लामिक स्टेट के आतंक से बचकर निकली 24 साल की यजीदी सरवाइवर नादिया मुराद और केन्या में किसानों की मदद करने के लिए 28 साल की डायसमस किसिलू को दिया गया।

 

अमिका का मक़सद है लड़कियों को फ़्री सेनेटरी नैपकिन दिलाना:

amika george

उन्होंने बताया कि इस कैंपेन की शुरुआत एक ऑनलाइन पीटिशन से हुई। प्रदर्शन के दिन वह अपने घरवालों के साथ डाउनिंग स्ट्रीट पहुँची थीं। लेकिन उन्हें उम्मीद नहीं थी कि हज़ारों की संख्या में और लोग भी पहुँचेंगे। बता दें अमिका अब कैम्ब्रिज स्कूल से इतिहास पढ़ने की शुरुआत करने वाली हैं। अब अमिका का मक़सद लड़कियों के लिए फ़्री सेनेटरी पैड के लिए लड़ना है। वहीं अवार्ड समारोह में फ़्रांस के राष्ट्रपति एमेनुएल मैंक्रो, महिला एक्टिविस्ट ग्रेस मिशेल, राइटर एक्टिविस्ट रिचर्ड कार्टिस, संगीतकार किंग काका, और एक्टर स्टीफ़न फ्राई भी मौजूद थे। इस कार्यक्रम में ब्रिटिश सिंगर शिरिन ने भी अपनी परफ़ोर्मेंस दी।


यह भी पढ़े:-


 

Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More