THE ADDA | Hindi News - Breaking News, Viral Stories, Indian Political News In Hindi

धर्म के रक्षक अमेरिका के पादरियों ने हज़ारों बच्चों का किया यौन शोषण

छोटे बच्चे और लड़कियों के साथ किया गया यौन शोषण

2,884

समय के साथ-साथ हर समाज में बदलाव होते हैं। यह बदलाव कई बार अच्छे होते हैं तो कई बार बहुत ही भयावह होते हैं। आज समाज में जो बदलाव हो रहे हैं, उनमें से कई बदलाव ऐसे हैं, जिनके बारे में जानकर आपकी रूह काँप जाएगी। आज समाज में अधर्म बढ़ गया है। धर्म की आड़ में लोग कई तरह के ग़लत काम करने लगे हैं। लोग अपने हिसाब से धर्म का इस्तेमाल कर रहे हैं। ऐसा दुनिया के हर देश में हो रहा है। भारत में भी इस तरह की कई घटनाएँ सामने आ चुकी हैं। हालाँकि आज हम भारत की किसी घटना के बारे में नहीं बताने जा रहे हैं।

 

चर्च के वरिष्ठ अधिकारियों ने घटनाओं को छुपाया:

अमेरिका के पेंसिलवेनिया राज्य में कैथोलिक पादरियों द्वारा बच्चों के साथ यौन शोषण का हैरान करने वाला ख़ुलासा हुआ है। इस ख़ुलासे के बाद से केवल अमेरिका ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया हैरान है। इस ख़ुलासे में यह बात सामने आयी है कि 1940 से लेकर अब तक पादरियों ने हज़ारों बच्चों को अपनी हवस का शिकार बनाया है। धर्म का पाठ पढ़ाने वाले ये पादरी ख़ुद अधर्म के रास्ते पर चलते हैं। पादरियों ने हज़ारों बच्चों के साथ यौन उत्पीड़न और बलात्कार किया। लेकिन चर्च के वरिष्ठ अधिकारियों ने लगातार इन घटनाओं को छुपाए रखा।

 

छोटे बच्चे और लड़कियों के साथ किया गया यौन शोषण:

मंगलवार को जारी ग्रैंड जयरि की रिपोर्ट में इन आरोपों को पुख़्ता कर दिया गया है। समाचार एजेंसी एपी की ख़बर के अनुसार हैरिसबर्ग शहर में बुलाए गए एक प्रेस कॉन्फ़्रेन्स में आटोर्नी जनरल जोश शैप्रियो ने कहा कि, ‘पादरी छोटे बच्चों और लड़कियों के साथ बलात्कार कर रहे थे। भगवान के लोग केवल इस तरह के गंदे काम को करने के लिए ही नहीं बल्कि इस घिनौने काम को छुपाने के लिए भी ज़िम्मेदार हैं।’ शैप्रियो ने कहा कि जाँच से इस बात की पुष्टि हुई है कि पेंसिलवेनिया और वेटिकन के वरिष्ठ चर्च अधिकारियों ने इन बातों को छुपाने का भी प्रयास किया।

 

300 आसें अधिक पादरी थे इस कुकृत्य में शामिल:

ग्रैंड ज्यूरी की रिपोर्ट के अनुसार जिस संख्या में यह मामला सामने आया है, वह अपने आप में एक बहुत बड़ा रिकार्ड है। इस रिपोर्ट में इस बात का ख़ुलासा हुआ है कि बच्चों के साथ यौन उत्पीड़न जैसी गंदी हरलत करने वालों में एक दो नहीं बल्कि 300 पादरियों की संख्या है। यह अपने आप में अब तक का सबसे बड़ा मामला है। जानकारी के अनुसार ज़्यादातर मामले इतने ज़्यादा पुराने हो गए हैं कि अब उनके बारे में आपराधिक मामला भी नहीं दर्ज किया जा सकता है। 300 आरोपियों में से 100 से ज़्यादा पादरियों की मृत्यु भी हो चुकी है।

 

हो चुका है 17 हज़ार से ज़्यादा लोगों के साथ यौन उत्पीड़न:

इनमें से कई पादरी अब रिटायर हो गए हैं। वहीं कुछ ऐसे भी पादरी हैं जो पहले पादरी थे, लेकिन अब पादरी का जीवन छोड़ चुके हैं। अधिकारियों ने सभी मामले की जाँच की है और फ़िलहाल अभी दो लोगों के ऊपर ही मामला दर्ज किया जा सका है। इनमे से एक पादरी भी है जो दोषी माना गया है। ग्रैंड ज्यूरी ने वाशिंगटन आर्कड़ियोसेज के प्रमुख कार्डिनल डॉनल्ड वुएरेल को पादरियों को बचने के लिए आरोपी बनाया है। केवल यही नहीं अमेरिका के कई बिशप ने यह बात माना है कि अगर देश भर की बात करें तो लगभग 17 हज़ार से ज़्यादा लोगों के साथ यौन उत्पीड़न किया गया है।

 

9 साल के एक बच्चे को किया गया था ओरल सेक्स के लिए मजबूर:

इस जाँच में यह बात सामने आयी है कि पेंसिलवेनिया के ज़्यादातर पीड़ितों में लड़के शामिल हैं। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि लड़कियों के साथ शोषण नहीं किया गया है। पादरियों ने लड़कियों को भी अपना शिकार बनाया था। पादरियों के ऊपर यहाँ तक आरोप है कि उन्होंने कई बच्चों के साथ एनल, ओरल और वेज़ाइनल सेक्स भी किया है। जानकारी के अनुसार एक 9 साल के बच्चे को ओरल सेक्स के लिए मजबूर किया गया। जबकि एक अन्य बच्चे को नंगा करके उसकी फ़ोटो भी खिंची गयी। इन आरोपों के बाद वाशिंगटन डीसी के पूर्व आर्चबिशप एच. मैककैरिक ने कार्डिनल के पद से इस्तीफ़ा दे दिया है।

 

भोले भाले लोगों को फँसाते हैं अपने जाल में:

इस घटना ने पूरी दुनिया को हैरान तो किया ही है, उसके साथ ही लोगों के सामने यह भी सवाल खड़ा कर दिया है कि क्या सच में ये पादरी ईश्वर के बंदे होते हैं। क्या सच में ईश्वर नाम की कोई चीज़ भी है। अगर ईश्वर होते तो इस तरह की घटनाओं को होने ही नहीं देते, ख़ासतौर से जब इन घटनाओं को अंजाम देने वाला ख़ुद ईश्वर का ही बंद हो। भारत ही नहीं बल्कि अमेरिका में भी धर्म के नाम पर कई तरह के ग़लत धंधे किए जाते हैं। भारत में अंधविश्वास की कई घटनाएँ सामने आ चुकी हैं, भारत में ढोंगी बाबाओं की कोई कमी नहीं है। ये ढोंगी बाबा भोले-भाले लोगों को अपने जाल में इस तरह फँसाते हैं कि लोग इनके भक्त बनकर इनके लिए कुछ भी करने को तैयार हो जाते हैं।

 

दशकों से चलती आ रही हैं ऐसी घटनाएँ:

भारत में ही नहीं अंधविश्वास असर देखा जाता है बल्कि विश्व के कई देश भी इसकी चपेट में हैं। अंधविश्वास के चक्कर में फँसकर कोई भी व्यक्ति ग़लत कार्यों में फँस जाता है। अमेरिका की इस घटना ने यह साबित कर दिया है कि ईश्वर के बंदे बनकर धर्म की शिक्षा देने वाले ही जब ऐसे कुकर्म करते हैं तो, वह दूसरों को कहाँ से अच्छाई के मार्ग पर चलने के लिए प्रेरित कर सकते हैं। कोई पादरी भला ऐसे कैसे कर सकता है, इसके बारे में सोचकर ही हैरानी हो रही है। यह कुकर्म आज से नहीं बल्कि पिछले कई दशकों से चलता आ रहा था। लेकिन इस ख़ुलासे के बाद यह उम्मीद लगायी जा रही है कि अब इस तरह की घटनाओं पर रोक लग सकेगी।

 


यह भी पढ़े:

 

 

 

 

Loading...

Loading...

- Advertisement -

Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More