THE ADDA
THE ADDA: Hindi News, Latest News, Breaking News in Hindi, Viral Stories, Indian Political News

स्वास्थ्य क्षेत्र में बेहतरीन योगदान के लिए अनुज चौधरी को नवाज़ा जाएगा हेल्थकेयर लीडर अवार्ड से

समाज सेवा के कार्यों में लगा दिया अपना जीवन

0 29

सही कहा जाता है कि अगर इंसान सच्चे मन से कोई काम करता है तो उसे उसके काम का फल एक ना एक दिन मिल ही जाता है। गीता में भी कहा गया है कि “कर्मण्येवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन, मा कर्मफलहेतुर्भूर्मा ते संगोऽस्त्वकर्मणि।” अर्थात- कर्तव्य-कर्म करने में ही तेरा अधिकार है, फलों में कभी नहीं। अतः तू कर्मफल का हेतु भी मत बन और तेरी अकर्मण्यता में भी आसक्ति न हो। अगर इसे आसान शब्दों में कहें तो व्यक्ति को अपना कर्म करना चाहिए बिना फल की इच्छा किए। आज हम आपको एक ऐसे ही व्यक्ति के बारे में बताने जा रहे हैं, जिन्होंने अपना लक्ष्य ही गीता के इस श्लोक के अनुसार अपना जीवन जीने का बना लिया था।

समाज सेवा के कार्यों में लगा दिया अपना जीवन:

जी हाँ हम बात कर रहे हैं अनुज चौधरी की। हम यह जानते हैं कि आप लोगों में से ज़्यादातर लोग अनुज चौधरी को भले ही ना जानते हों, लेकिन एक दिन इनको ज़रूर जानेंगे। बता दें अनुज चौधरी पेशे से एक समाजसेवी और नयूट्रिशनिस्ट हैं। इसके साथ ही ये एनिमल बूस्टर हेल्थ न्यूट्रिशन के चेयरमैन भी हैं। इनके बारे में जितना बताया जाए वह कम ही है। इन्होंने अपना ज़्यादातर जीवन समाज सेवा के कार्यों में लगा दिया। यही वजह है कि जो इन्हें क़रीब से जानता है, वह इनका मुरीद है। हाल ही में ये पुणे में हुए 52वें एशियन बॉडीबिल्डिंग एंड फ़िज़िक स्पोर्ट्स चैम्पियनशिप के ऑर्गनाइज़र समिति में भी शामिल थे।

अनुज चौधरी

दुनिया में केवल 50 लोगों को दिया जाता है यह पुरस्कार:

anuj chaudhary won smart healthcare leader award

इस प्रतियोगिता में दुनिया के कई देशों से बॉडी बिल्डर हिस्सा लेने के लिए शामिल हुए थे। अनुज चौधरी हमेशा से ही देश के युवाओं को आगे बढ़ाने के लिए काम करते आए हैं। समाज के उन लोगों को आगे बढ़ाना इनका मक़सद है, जो हुनरमंद हैं, लेकिन पैसे की कमी से पीछे रह जाते हैं। ये उनकी प्रतिभा को पहचानकर उन्हें आगे बढ़ने में मदद करते हैं। हाल ही में स्वास्थ्य के क्षेत्र में बेहतरीन योगदान की लिए इन्हें स्मार्ट हेल्थ की तरफ़ से स्मार्ट हेल्थकेयर लीडर अवार्ड से भी सम्मानित किया गया है। आपको जानकर हैरानी होगी कि यह पुरस्कार केवल दुनिया के टॉप 50 लोगों को दिया जाता है। दुनिया के 50 लोगों में अपने लिए जगह बनाना एक बड़ी बात होती है।


Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More