THE ADDA
THE ADDA: Hindi News, Latest News, Breaking News in Hindi, Viral Stories, Indian Political News

उत्तराखंड के पूरे हुए 18 साल, 9 नवम्बर 2000 को उत्तर प्रदेश से कटकर बना था भारत का 27वाँ राज्य

धार्मिक पवित्रता की वजह से जानें जाते हैं कई स्थल

0 5,730

उत्तराखंड के बारे में किसी को बताने की ज़रूरत नहीं है। यह देवभूमि के नाम से प्रसिद्ध है। उत्तराखंड अपनी प्राकृतिक ख़ूबसूरती के लिए पूरे विश्व में जाना जाता है। उत्तराखंड पहले उत्तर प्रदेश का हिस्सा था। कई साल तक चले लम्बे आंदोलन के बाद 9 नवम्बर 2000 को को भारत गणराज्य के 27वें राज्य के रूप में पहचान मिली। 2000 से 2006 तक उत्तराखंड को उत्तरांचल के नाम से जाना जाता था। लेकिन जनवरी 2007 में स्थानीय लोगों की भावनाओं का ध्यान रखते हुए राज्य का अधिकारिक नाम उत्तरांचल से बदलकर उत्तराखंड रख दिया गया।

धार्मिक पवित्रता की वजह से जानें जाते हैं कई स्थल:

best-wishes-to-the-people-of-the-state-on-completion-of-18-years

उत्तराखंड की सीमाएँ उत्तर में तिब्बत और पूर्व में नेपाल तो पश्चिम में हिमाचल प्रदेश और दक्षिण में उत्तर प्रदेश से लगी हुई है। हिंदू धर्मग्रंथों और प्राचीन साहित्य में इस क्षेत्र का उल्लेख के रूप में किया गया है। हिंदी और संस्कृत में  का अर्थ उत्तरी क्षेत्र या भाग होता है। कई धार्मिक स्थल है जो अपनी पवित्रता की वजह से जानें जाते हैं। हिंदू धर्म की प्रमुख दो नदियों गंगा और यमुना का उद्गम भी के गंगोत्री और यमुनोत्री से हुआ है। देहरादून उत्तराखंड की राजधानी होने के साथ ही इस राज्य का सबसे बड़ा नगर भी है। ग़ैरसैण नाम के एक छोटे से क़स्बे की भौगोलिक स्थिति देखते हुए इसे भविष्य की राजधानी के रूप में प्रस्तावित किया गया है।

आंदोलनकारियों को दी श्रद्धांजलि:

लेकिन विवादों और संसाधनों की कमी की वजह से अभी देहरादून की राजधानी बनी हुई है। गुरुवार को उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने उत्तराखंड के 18 साल पूरे होने पर प्रदेश वासियों को शुभकामनाएँ दी। मुख्यमंत्री ने राज्यवासियों से आह्वान करते हुए कहा कि सभी लोग राज्य और देश के समग्र विकास और समृद्धि के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ योगदान दें। इसके साथ ही उन्होंने राज्य दिवस पर जारी अपने संदेश शहीद आंदोलनकारियों को याद करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि भी दी।

रावत ने दी अटल बिहारी वाजपेयी को भी श्रद्धांजलि:

उत्तराखंड

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य स्थापना के 18 साल पूरे होने पर मैं सबसे पहले उन सभी ज्ञात-अज्ञात महान आंदोलनकारियों को प्रणाम करता हूँ, जिनके बलिदान और साहस के बिना उत्तराखंड राज्य के सपने को पूरा नहीं किया जा सकता था। इस अवसर पर मुख्यमंत्री रावत ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को भी श्रद्धांजलि दी। उन्होंने आगे कहा कि ने बहुत सी मंज़िले तय की है लेकिन अभी बहुत कुछ किया जाना बाक़ी भी है।


Loading...

Loading...

- Advertisement -

Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More