THE ADDA | Hindi News - Breaking News, Viral Stories, Indian Political News In Hindi

- Advertisement -

Browsing Category

लोक की बात

लोकगीतों के युग का नाम कबूतरी देवी : पहाड़े को ठंडो पाणी ।

उत्तराखंड की स्वर कोकिला कबूतरी देवी का आज वाली कबूतरी देवी जी का 7 जुलाई 2018 को पिथौरागढ़ के जिला अस्पताल में निधन हो गया। कबूतरी देवी के स्वर कण्ठ उत्तराखंड की वादियों और कुमाऊनी लोकगीत और ऑडियो वीडियो रेडियो रिकॉर्ड में उनकी आवाज सदा…

उत्तर भारतीय लोक संगीत की धुनों के कलावंत सतीश नेगी

गढवाली कुमाऊनी राजस्थानी भोजपुरी पंजाबी हरियाणवी एल्बम में रिदम संगत औऱ रिदम अरेंजर के रूप में लोकप्रिय 10 हजार से ऊपर रिदम रिकॉर्डिंग जिसमे लगभग 500 एल्बम उत्तराखंड से जुड़ी है

उत्तराखंडी लोक गीत संगीत आडियो क्रांति का जनक नेगी दा

पट्टी नदाल्स्यु ग्राम पौडी गांव में एक फौजी पृष्ठ भूमि वाले परिवार में फौजी उमारव सिंह नेगी और समुद्रा देवी के घर माता पिता की तीसरी संतान के रूप बालक नरु उर्फ लोक गायक नरेन्द्र सिंह नेगी का जन्म हुआ ! एक बहन और एक भाई वाले भरे पूरे परिवार…

क्या आप उत्तराखंड की इस उभरती लोक गायिका के बारे में जानते हैं

आवाज हो तो दीपा पंत जी जैसी हो इस  छोटी बच्ची का  कोई भी गाना सुनो सुर इतने सधे ऐसा तराशा गला है , आवाजें बहुत है पर जिस आवाज में मेलोडी हो उसको सुर कहते है !

“नईमा खान उप्रेती” उत्तराखंड कला साहित्य संस्कृति का स्वर्ण युग 

नईमा खान उप्रेती उत्तराखंड कला साहित्य संस्कृति का स्वर्ण युग !   बेडु पाको गीत गाने वाली पहली  गायिका नईमा खान ! नईमा खान उप्रेती अल्मोड़ा की वादियों वो लड़की जो बचपन से गाने शौक रखती थी हर साल अपने स्कूल के गर्ल्स कॉलेज के म्यूजिक…

पांच पराणी पच्चीस छवी तीन सीन का अद्धभुत गढवाली नाटक

गढवाली साहित्य का सौभाग्य है की कोई नरेंद्र कठैत जैसा साहित्य शिल्पी गढवाली भाषा मे है  नरेंद्र कठैत के साहित्य वो नाटक व्यंग लेख फीचर स्तम्भ कविता आप तभी समझ सकते है जब आप ने साहित्य के चरम को पढ़ा हो रंगमंच के चरम शास्त्रीयता को देखा…

सुदामा के लिए कोई कृष्ण नही है आज के युग मे !

पुण्यतिथि स्मृति शेष ( 12 जून) साहित्य आकदमी पुरुस्कार से सम्मानित सुदामा प्रसाद प्रेमी आज हिंदी और गढ़वाली भाषा मे साहित्य लिखने वाले साहित्यकार सुदामा प्रसाद प्रेमी जी की पुण्यतिथि है नमन ऐसे उत्तराखंड साहित्य रत्न को ! सुदामा…

लोक में पप्पू का स्ट्रगल ही स्वर बनता है – ऐजा रे चैत बैसाखा मेरो मुन्स्यारा- अलविदा पप्पू…

अपने लोक के शब्द भाषा संगीत में सुर खोजने सजाने गाने लिखने वाले सभी वो कलावंत जिनको हमारा समाज लोक कलाकार , लोकगायक , गढ़ गौरव , कुमाऊ गौरव , उत्तराखंड की शान , हिमालय पुत्र , जागर सम्राट सुर सम्राट लोक सम्राट , उत्तराखंड गौरव न जाने प्रेम…