THE ADDA
THE ADDA: Hindi News, Latest News, Breaking News in Hindi, Viral Stories, Indian Political News

केवल अटल जी ही नहीं पिछले 10 दिनों में इन मशहूर लोगों ने भी कहा दुनिया को अलविदा

पूरा अगस्त महीना भरा होगा आकस्मिक घटनाओं से

6,117

लम्बी बीमारी से लड़ते हुए आख़िरकार 93 साल की उम्र में भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने इस दुनिया को अलविदा कह दिया। 16 अगस्त गुरुवार की संध्या को 5 बजकर 5 मिनट पर अटल जी ने आख़िरी साँस ली। उनकी मौत से पूरा देश दुखी है। देश के अलावा विदेशों और पड़ोसी देश पाकिस्तान के लोग भी अपने चहेते अटल बिहारी वाजपेयी के जानें से बहुत दुखी हैं। जानकारी के अनुसार पिछले कई दिनों से अटल बिहारी वाजपेयी की तबियत नाज़ुक बनी हुई थी। डॉक्टरों ने उन्हें बचाने की हर सम्भव कोशिश कि, लेकिन वो कामयाब नहीं हो पाए।

 

डिमेंशिया में छोटी-छोटी बातें भूल जाते हैं लोग:

famous personalities

2009 से लगातार अटल जी की हालत ख़राब चल रही थी। इसकी वजह से वह व्हीलचेयर पर थे। व्हीलचेयर पर होने के साथ-साथ ही उन्हें डिमेंशिया जैसी घातक बीमारी भी थी। आपकी जानकारी के लिए बता दें इस बीमारी में व्यक्ति को भूलने की आदत लग जाती है। वह छोटी से छोटी चीज़ें भी भूलने लगता है। इसके अलवा अटल बिहारी वाजपेयी यूरिन इन्फ़ेक्शन की समस्या से भी ग्रसित थे। आपको जानकर काफ़ी हैरानी होगी कि केवल अटल जी ही नहीं बल्कि पिछले 10 दिनों में देश की कई नामी हस्तियों ने इस दुनिया को अलविदा कह दिया। बीते कुछ ही दिनों में भारत ने अपने कई अनमोल रत्न खो दिए।

 

10 दिनों में इन लोगों ने कहा दुनिया को अलविदा:

सोमनाथ चटर्जी:

famous personalities
somnath chatterjee

लोकसभा के पूर्व अध्यक्ष सोमनाथ चटर्जी के बारे में किसी को बताने की ज़रूरत नहीं है। 89 साल की उम्र में सोमनाथ चटर्जी ने भी इस दुनिया को अलविदा कह दिया। सोमवार को उनकी भी मृत्यु हो गयी। आपको बता दें सोमनाथ का भी एक लम्बा राजनीतिक इतिहास रहा है। सोमनाथ लगभग चार दशकों तक सांसद रहे थे। सोमनाथ चटर्जी के निधन पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी शोकि जताया था। इसके साथ ही देश के अन्य नेताओं ने भी सोमनाथ की मौत पर दुःख व्यक्त किया था।

 

आरके धवन:

famous personalities
R.k Dhawan

इनके बारे में बहुत कम लोगों को ही जानकारी होगी। आपको बता दें इंदिरा गांधी के निजी सचिव और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आरके धवन का बीते 6 अगस्त को निधन हो गया। बताया जा रहा है कि 81 साल के धवन ने भी अपने जीवन में कई महत्वपूर्ण काम किए हैं। पंजाब यूनिवर्सिटी से स्नातक आरके धवन 1962 से 1984 तक इंदिरा गांधी के निजी सचिव रहे थे। इसके बाद वह 1990 में राज्यसभा के लिए भी चुने गए थे। साथ ही वह कई संसदीय समितियों के सदस्य भी रहे। आरके धवन की पढ़ाई देहरादून और बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) में भी हुई थी। वह राज्यसभा के सांसद भी रहे हैं।

 

बलराम दास:

famous personalities
Balram Das Tandon

कुछ दिन पहले ही छतीसगढ़ के राज्यपाल बलराम दास टंडन का छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में निधन हो गया। जानकारी के अनुसार 90 वर्षीय टंडन को दिल का दौरा पड़ा था। इसके बाद उन्हें आनन-फ़ानन में डॉक्टर भीमराव अम्बेडकर अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। वहीं पर उन्होंने अपने जीवन की अंतिम साँस ली। बताया जाता है कि टंडन 1953 से 1967 के दौरान अमृतसर में नगर निगम पार्षद और 1957, 1962, 1967, 1977 में अमृतसर से विधानसभा के सदस्य निर्वाचित हुए। टंडन ने पंजाब मंत्रिमंडल में वरिष्ठ कैबिनेट मिनिस्टर के रूप में उद्योग, स्वास्थ्य, स्थानीय शासन, श्रम और रोज़गार आदि विभागों में अपनी सेवाएँ दी। इनके अंदर ग़ज़ब की प्रशासनिक क्षमता भी थी। ये पंजाब के उप मुख्यमंत्री भी रह चुके थे।

 

वीएस नायपॉल:

famous personalities
V.S Naipaul

आपकी जानकारी के लिए बता दें वीएस नायपॉल को साहित्य के क्षेत्र में नोबल पुरस्कार भी मिला था। ये भारतीय मूल में प्रसिद्ध लेखक थे। नायपॉल का पिछले रविवार की सुबह ही निधन हो गया था। 85 साल की उम्र में नायपॉल ने लंदन स्थित अपने घर में आख़िरी साँस ली। जानकारी के अनुसार वीएस नायपॉल यानी विद्याधर सूरज प्रसाद नायपॉल का जन्म 17 अगस्त 1932 को त्रिनिदाद के चगवानस में हुआ था। नायपॉल को उनकी बेहतरीन लेखनी के लिए 1971 में बुकर पुरस्कार से और 2001 में साहित्य के नोबल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

 

अजित वाडेकर:

famous personalities
Ajit Wadekar

जो लोग क्रिकेट के हार्डकोर फ़ैन होंगे उन्ही लोगों को इनके बारे में पता होगा। जी हाँ हम बात कर रहे हैं भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान अजित वाडेकर की। राजनीतिज्ञों के अलावा भारत ने खेल जगत के इस नगीने को भी खोया। 77 साल की उम्र में अजित वाडेकर का निधन हो गया। इन्होंने मुंबई के जसलोक में अपनी आख़िरी साँस ली। आपको जानकर हैरानी होगी कि अजित वाडेकर की गिनती भारतीय क्रिकेट के इतिहास में सबसे सफल कप्तानों में की जाती है। अजित वाडेकर काफ़ी समय से बीमार चल रहे थे। 1 अप्रैल 1941 को मुंबई में जन्में वाडेकर ने 1966 से 1974 तक अन्तर्राष्ट्रीय क्रिकेट खेला था। इन्होंने अपने प्रथम श्रेणी क्रिकेट की शुरुआत 1958 में ही की थी। इनकी मौत से खेल जगत को काफ़ी गहरा धक्का लगा था। इनकी मौत पर देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी दुखभरा ट्वीट किया था।

 

इनकी कविताओं का हर कोई था दीवाना:

अटल बिहारी वाजपेयी अपने करोड़ों चाहने वालों को छोड़कर 16 अगस्त 2018 को इस दुनिया से चले गए। अटल बिहारी वाजपेयी 1991, 1996, 1998 और 2004 में लखनऊ लोकसभा से सदस्य चुने गए थे। 1999 से लेकर 2004 तक प्रधानमंत्री के तौर पर अपना कार्यकाल पूरा करने वाले पहले और एकमात्र कांग्रेसी नेता अटल जी ही रहे हैं। 25 दिसम्बर 1924 को ग्वालियर में जन्मे अटल बिहारी वाजपेयी ने भारत छोड़ो आंदोलन से 1942 में राजनीति में क़दम रखा था। इसके बाद इन्होंने कभी भी पीछे मुड़कर नहीं देखा। ये अपने आख़िरी समय तक भारतीय राजनीति से जुड़े रहे। अटल जी एक बेहतरीन नेता, बेहतरीन इंसान के साथ ही कमाल के कवि भी थे। इनकी कविताओं का हर कोई दीवाना था।

 

पूरा अगस्त महीना भरा होगा आकस्मिक घटनाओं से:

famous personalities

ज्योतिषियों के अनुसार 3 अगस्त से 17 अगस्त का समय महामनाओं के लिए बहुत ही भारी बना हुआ था। इसका कारण यह है कि सूर्य अश्लेषा नक्षत्र में भ्रमण कर रहा है। इस गंडमूल संज्ञक नक्षत्र में रहते हुए सूर्य को 11 अगस्त को ग्रहण लगा। इसके साथ ही तात्कालिक ग्रह स्थिति में बुध, मंगल, शनि और राहु-केतु मिलकर कुल पाँच ग्रह वक्री चाल से गतिमान हैं। यह समय निश्चित रूप से ही बहुत कठिन है। ज्योतिषियों के अनुसार इसी वजह से आने वाला पूरा अगस्त महीना ही इस तरह की आकस्मिक घटनाओं से भरा रहेगा। इस ग्रह परिस्थिति में इस तरह के दुखद समाचार सुनने को मिल सकते हैं। इसके साथ ही भौतिक हलचल की भी उम्मीद है। केरल की घटना इसका ताज़ा उदाहरण है। केरल में हर रोज़ कई लोगों की जानें जा रही हैं और अभी भी स्थिति नियंत्रण में नहीं है। आगे क्या होगा, इसके बारे में कहना थोड़ा मुश्किल है।

 


इसे भी पढ़ें:

 

 

 

 

Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More