THE ADDA
THE ADDA: Hindi News, Latest News, Breaking News in Hindi, Viral Stories, Indian Political News

शाम होते ही इस मंदिर पर होता है आत्माओं का क़ब्ज़ा, डर के मारे नहीं जाते लोग

मंदिर से सुनाई देती है शेर के दहाड़ने की आवाज़

20

भारत एक धार्मिक देश है, इसी वजह से भारत के हर कोने में आपको मंदिर देखने को मिलेंगे। भारत की गली-गली में आपको किसी ना किसी देवी देवता का मंदिर देखने को मिल जाएगा। यहाँ मंदिरों और धार्मिक स्थलों की भरमार है। इनमें से कुछ मंदिर ऐसे भी हैं जो अत्यंत ही प्राचीन हैं और कई रहस्यों से भारा हुआ हैं। आजतक इन मंदिरों के रहस्य के बारे में कोई नहीं जान पाया है। इसके साथ ही इन मंदिरों का इतिहास भी काफ़ी रोचक रहा है। आज हम आपको एक ऐसे ही रहस्यमयी मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसके बारे में बहुत कम लोग जानते हैं।

घर के सदस्य हो गए एक-दूसरे के ख़ून के प्यासे:

indian temple
Dewas tekri in Madhya pradesh

आज हम आपको जिस मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं, वह मध्य प्रदेश के देवास जिले में बना हुआ दुर्गा माता का मंदिर है। इस मंदिर के बारे में कई तरह की कहानियाँ प्रचलित हैं। इस मंदिर के बारे में कहा जाता है कि जब से इस मंदिर का निर्माण हुआ है, तब से राजघराने में हर रोज़ कोई ना कोई अशुभ घटना घटती है। परिवार में हर रोज़ झगड़े होने लगे। पारिवारिक झगड़ा इस क़दर बढ़ गया कि घर के सदस्य एक दूसरे के ख़ून के प्यासे हो गए। किवदंतियों के अनुसार यहाँ की राजकुमारी का किसी सेनापति के साथ प्रेम सम्बंध था।

 

कुछ ही दिनों में राजकुमारी की हो गयी मृत्यु:

इस ख़बर के बाहर आने के बाद राजकुमारी को महल में बंधक बना लिया गया। दरअसल यहाँ के राजा नहीं चाहते थे कि राजकुमारी को किसी सेनापति से प्यार हो। कुछ ही दिनों के बाद राजकुमारी की मृत्यु हो गयी। राजकुमारी की मृत्यु के बारे में राज्य में अलग-अलग बातें कही गयी। राजकुमारी की मौत के बाद उस सेनापति ने भी आत्महत्या कर ली। सेनापति की मौत के बाद रानी से जुड़ी सभी ख़बरों को लोगों ने सच मान लिया। राज्य में हो रही घटनाओं के बारे में राजपुरोहित ने कहा कि अब यह मंदिर अपवित्र हो चुका है।

 

मंदिर से सुनाई देती है शेर के दहाड़ने की आवाज़:

indian temple

राजपुरोहित ने कहा इस वजह से अब यहाँ पूजा-अर्चना करने का कोई मतलब नहीं है। राजपुरोहित ने मंदिर में लगी प्रतिमा को कहीं और लगाने की बात कही। राजा ने राजपुरोहित की बात मानकर दुर्गा माँ की प्रतिमा को उज्जैन के किसी दूसरे मंदिर में लगवा दिया। इसके बाद भी राज्य में होने वाली घटनाएँ नहीं रुकी। राजपरिवार में भी इस तरह की घटनाएँ लगातार होती रही। उस समय से लेकर आज तक इस मंदिर में अलग-अलग रहस्यमयी गतिविधियाँ होती रहती हैं। स्थानीय लोगों की मानें तो मंदिर से शेर के दहाड़ने की भी आवाज़ सुनाई देती है। कभी-कभी किसी और चीज़ की आवाज़ सुनी जाती है।

 

शाम होने के बाद ही मंदिर में आ जाती है आत्माएँ:

मंदिर के पास रहने वाले लोगों का मानना है कि शाम होने के बाद मंदिर में आत्माएँ आ जाती हैं। इसी वजह से सूरज डूबने के बाद इस मंदिर के आस-पास कोई नज़र नहीं आता है। इस शापित मंदिर को कई बार लोगों ने तोड़ने की भी कोशिश की, लेकिन वो सफल नहीं हो पाए। जिसने भी इस मंदिर को तोड़ने की कोशिश की, उसके साथ अजीबो-ग़रीब घटनाएँ होने लगीं। इसके बाद से लोगों ने इस मंदिर को तोड़ने का ख़याल ही अपने दिमाग़ से निकाल दिया। अब स्थानीय लोगों ने मंदिर से दूरी भी बना ली है।

 


और पढ़ें:

 

 

 

 

 

 

Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More