THE ADDA
THE ADDA: Hindi News, Latest News, Breaking News in Hindi, Viral Stories, Indian Political News

अम्बेडकर पार्क पर सवाल करने वाली भाजपा से स्टैच्यू ऑफ़ यूनिटी पर बीएसपी ने पूछा सवाल

भाजपा ने आलोचना में नहीं छोड़ी थी कोई कसर

0 12

उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री बहन मायावती को तो आप लोग अभी तक भूले नहीं होंगे। जब मायावती उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री थीं, तो उन्होंने लखनऊ और नोएडा में अम्बेडकर पार्क बनवाया था। उस समय उस पार्क को बनवाने में काफ़ीपैसे ख़र्च हो गये थे। जिसकी वजह से मायावती की जमकर आलोचना की गयी थी। हर तरफ़ मायावती के उस कार्य की आलोचना हो रही थी। वहीं काफ़ी लोगों ने मायावती के कार्य की सराहना भी की थी। अब बहुजन समाज पार्टी ने मायावती के अम्बेडकर पार्क बनाए जानें का बचाव किया है।

हज़ारों परिवारों का छिन लिया सुख-चैन:

अम्बेडकर

पार्टी के प्रवक्ता सुधीन्द्र भदौरिया ने एक न्यूज़ चैनल से बातचीत करते हुए कहा कि बीएसपी सरदार पटेल की मूर्ति का स्वागत करती है। इसके साथ ही वह भाजपा के दोहरेपन के ख़िलाफ़ है। आपको बता दें सरदार पटेल की मूर्ति को बनाने में जितना पैसा मोदी सरकार ने ख़र्च किया है, उतने पैसे में देश में कई हॉस्पिटल, कॉलेज खोले जा सकते हैं। जबकि उल्टा सरदार पटेल की प्रतिमा के निर्माण के लिए सरकार ने हज़ारों परिवार का सुख-चैन छिन लिया। उनकी ज़मीनों का धिग्रहण कर लिया। इसकी वजह से हज़ारों किसानों के घर चूल्हे नहीं जल पा रहे हैं।

भाजपा ने आलोचना में नहीं छोड़ी थी कोई कसर:

भदौरिया ने आगे कहा, जब हमने अम्बेडकर पार्कों का निर्माण किया था तो भाजपा ने इसे जनता के पैसे का दुरुपयोग बताया था, वो ख़ुद भी अब सरकारी पैसे का इस्तेमाल कर रहे हैं। भदौरिया ने कहा कि ये अच्छा है कि सरकार वल्लभ भाई पटेल के सम्मान में उनकी मूर्ति का निर्माण किया गया है। उन्हें संयुक्त भारत के बड़े स्टेट्समैन के तौर पर याद किए जाते हैं। सरदार पटेल नेताओं ने उस समूह में शामिल रहे, जिसकी अगुवाई बाबा साहेब डॉक्टर भीमराव अम्बेडकर ने की। भदौरिया का कहना है कि जब उत्तर प्रदेश में लखनऊ और नोएडा में अम्बेडकर पार्क बनवाए गए थे तो भाजपा ने आलोचना में कोई कसर नहीं छोड़ी थी।

ग़रीबों का उत्थान करने वालों को समर्पित है पार्क:

भदौरिया ने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि, उस समय भाजपा ने इसे जनता के पैसे की बर्बादी बताया था। अब उन्होंने सरकारी पैसे से क्यों स्टैच्यू ऑफ़ यूनिटी का निर्माण किया। इसके लिए भाजपा ने क्यों नहीं अपनी पार्टी के फ़ंड का इस्तेमाल किया। बसपा प्रवक्ता भदौरिया के अनुसार, अम्बेडकर पार्कों को उन सभी महापुरुषों को समर्पित किया गया है, जिन्होंने ग़रीबों के उत्थान की लिए काम किया। देश के दलितों के कल्याण के लिए समर्पित महान शख़्सियतों जैसे की डॉक्टर अंबडेकर, महात्मा ज्योतिबा फुले और कांशीराम का सम्मान किया गया।

कांशीराम की इच्छा थी कि साथ में बने मायावती की मूर्ति:

mayawati-targets-bjp-sardar-patel-statue-ambedkar-parks

भदौरिया से जब यह पूछा गया कि, महापुरुषों के साथ मायावती की मूर्ति स्थापित करने का क्या औचित्य था, तो उन्होंने कहा कि वो सही क़दम था। उन्होंने कहा कि बसपा के संस्थापक कांशीराम की इच्छा थी कि जब उनकी मूर्ति बने तो मायावती की भी मूर्ति साथ बने। ऐसा उन्होंने मायावती के दलितों के उत्थान के लिए समर्पण को देखकर कहा था। भदौरिया ने लखनऊ और नोएडा में अम्बेडकर पार्कों में पत्थर के हाथी बनाने का भी स्वागत किया। भदौरिया ने कहा कि अंबडेकर पार्कों में पत्थर के हाथी केवल बसपा का प्रतीक नहीं वो अम्बेडकर और उनकी रिपब्लिकन पार्टी का भी प्रतीक है। इसी वजह सी उसे पार्कों में बनाया गया है।


Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More