THE ADDA
THE ADDA: Hindi News, Latest News, Breaking News in Hindi, Viral Stories, Indian Political News

मनमोहन सिंह ने साधा मोदी पर निशाना, कहा सरकार की विदेश नीति और नोटबंदी फ़ेल

दलितों और अल्पसंख्यकों में पैदा हुई है असुरक्षा की भावना

manmohan singh
3,618

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को किसी पहचान की ज़रूरत नहीं है। ये 2004 से लेकर 2009 और 2009 से लेकर 2014 तक दो बार सफलता पूर्वक देश के प्रधानमंत्री पद पर आसीन रह चुके हैं। जब ये सरकार में थे तब इन्हें मौन मोहन के नाम से विपक्ष इनपर हमला करता था। अब हमला करने की बारी इनकी है। मनमोहन सिंह ने शुक्रवार को मोदी सरकार को हर मोर्चे पर नाकाम बताते हुए हमला किया। आपको बता दें कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल की किताब ‘शेड्स ऑफ़ ट्रूथ’ के विमोचन के मौक़े पर मनमोहन सिंह मौजूद थे।

मोदी सरकार की नोटबंदी रही पूरी तरह से फ़ेल:

manmohan singh

इस दौरान मनमोहन सिंह ने वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार पर हमला करते हुए कहा कि केंद्र सरकार की विदेश नीति और नोटबंदी पूरी तरह से नाकाम रही है। आपकी जानकारी के लिए बता दें नरेंद्र मोदी ने 2016 में 8 नवम्बर को यह कहते हुए नोटबंदी लागू की थी कि इससे काले धन की समस्या पर लगाम लग सकेगी। काला धन की समस्या पर लगाम तो नहीं लगा, उल्टा लोगों को काफ़ी परेशानियों का सामना भी करना पड़ा। वहीं हाल ही में आरबीआई की रिपोर्ट से यह भी साफ़ हो गया कि सरकार की नोटबंदी पूरी तरह से फ़ेल रही।

दलितों और अल्पसंख्यकों में पैदा हुई है असुरक्षा की भावना:

मनमोहन सिंह ने मोदी सरकार पर हमला करते हुए कहा कि, ‘मोदी सरकार ने देश में कृषि संकट को बढ़ाया है। सरकार रोज़गार के अवसर पैदा करने में भी नाकाम रही है। आज भी दो करोड़ युवा नौकरी के इंतज़ार में हैं। नोटबंदी से देश की अर्थव्यवस्था को काफ़ी नुक़सान पहुँचा है। इसी तरह मोदी सरकार ने जीएसटी को भी हड़बड़ी में लागू करके व्यापार को ध्वस्त कर दिया। देश के किसान और नौजवान परेशान हैं। इस सरकार में दलितों और अल्पसंख्यकों में भी असुरक्षा का माहौल पैदा हुआ है।’

मोदी ने नहीं किया अपना कोई भी वादा पूरा:

manmohan singh

बता दें मनमोहन सिंह ने कपिल सिब्बल की किताब की तारीफ़ करते हुए कहा कि इसमें मोदी सरकार के कार्यकाल का पूरा विश्लेषण दिया गया है। किताब सरकार की नाकामियाँ बताती है। मोदी सरकार ने जनता से किए हुए वादे को पूरा नहीं किया। इसी वजह से देश का किसान आंदोलन करने के लिए मजबूर है। आपको बता दें कुछ दिनों पहले ही देश के लाखों किसानों ने दिल्ली के रामलीला मैदान में मोदी सरकार की नीतियों के ख़िलाफ़ प्रदर्शन किया था। नरेंद्र मोदी सत्ता में आने से पहले बड़े-बड़े वादे करते थे, लेकिन उन्होंने अपने किसी वादे को पूरा नहीं किया है।

 

नोटबंदी की वजह से छिन गया था कई लोगों का रोज़गार:

यह बात किसी से छुपी हुई नहीं है कि नरेंद्र मोदी ने हर साल दो करोड़ युवाओं को रोज़गार देने का वादा किया था। लेकिन मोदी के लगभग चार साल से ज़्यादा कार्यकाल के दौरान भी दो करोड़ युवाओं को रोज़गार नहीं मिल पाया है। उल्टा इस सरकार ने नोटबंदी करके कई लोगों का रोज़गार छिन लिया। मोदी के नोटबंदी के फ़ैसले की वजह से देश के ग़रीब लोगों को काफ़ी परेशानियों का सामना करना पड़ा था। कई लोगों की नौकरी चली गयी तो कई लोग भूखे मरने के लिए बेबस हो गए थे। हालाँकि आज भी मोदी भक्तों को लगता है कि नोटबंदी से फ़ायदा हुआ है।

 

 


यह भी पढ़े:

 

 

 

 

 

 

 

Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More