THE ADDA
THE ADDA: Hindi News, Latest News, Breaking News in Hindi, Viral Stories, Indian Political News

ख़ूनी ब्लू व्हेल गेम के बाद आया momo whatsApp, इससे दूर रखें अपने बच्चों को

जल्दी ही भारत में भी शिकार हो जाएँगे लोग

Source: Daily mail
2,797

नशा किसी भी चीज़ का हो बहुत ही बुरा माना जाता है। केवल शराब या नशीली चीज़ों की अधिकता ही नहीं, बल्कि किसी भी चीज़ की अधिकता सेहत के लिए हानिकारक होती है।आजकल लोगों में कई तरह के नशे देखे जा सकते हैं। सोशल मीडिया के इस युग में लोगों के ऊपर मोबाइल का नशा छाया हुआ है। आजकल हर कोई ज़्यादा से ज़्यादा समय अपने मोबाइल के साथ बिता रहा है। यहाँ तक कि एक ही छत के नीचे रहने वाले लोग भी मैसेज के ज़रिए एक दूसरे से बात कर रहे हैं।

गेम के चक्कर में भूल जाते हैं अपना ज़रूरी काम:

इसी तरह के नशा और भी है, जो बहुत ही ख़तरनाक होता है। जी हाँ हम बात कर रहे हैं गेम के नशे ही। आजकल मोबाइल पर गेम खेलने वालों की कोई कमी नहीं है। केवल बच्चे ही नहीं बल्कि बूढ़े भी गेम खेलने के नशे के शिकार हो गए हैं। हर किसी को गेम का नशा लगा हुआ है। कुछ लोग तो गेम के पीछे इस क़दर पागल रहते हैं कि वह अपना ज़रूरी काम करना भी भूल जाते हैं। आपको याद होगा कि कुछ समय पहले पोकेमान गो नाम का एक गेम आया था, जिसका नशा बच्चों से लेकर बूढ़ों में भी देखा गया था।

जल्दी ही भारत में भी शिकार हो जाएँगे लोग:

इस गेम की वजह से लोग पागल हो गए थे। एक और गेम आया था, जिसे ख़ूनी गेम के नाम से जाना जाता था। ब्लू व्हेल गेम। इस गेम ने पूरी दुनिया में तहलका मचा दिया था। इसकी वजह से कई लोगों ने अपनी जान भी गँवा दी थी। गेम ने लोगों का जीवन बदल दिया था। कई लोग अवसाद के भी शिकार हो गए थे। अब ब्लू व्हेल गेम के बाद momo whatsapp आया है, जिसने लैटिन अमेरिकी देशों की नीदें उड़ा रखी है। धीरे-धीरे यह गेम अमेरिका में भी अपने पैर पसार रहा है। वह समय ज़्यादा दूर नहीं है जब इस गेम के शिकार भारत के लोग भी हो जाएँगे।

क्या है momo whatsApp:

 momo whatsApp
Source: Daily mail

आपकी जनकारी के लिए बता दें आजकल लैटिन अमेरिकी देशों में whatsapp पर एक नम्बर ख़ूब वायरल हो रहा है। जिसको momo whatsApp बताया जा रहा है। whatsapp पर एक कांटैक्ट शेयर किया जा रहा है, जिसका एरिया कोड जापान का है। जो लोग इस कांटैक्ट को शेव कर रहे हैं, उनके मोबाइल पर एक बड़ी आँखों वाली लड़की की तस्वीर भी आ रही है जो काफ़ी डरावनी है। दावा किया जा रहा है कि जो भी इस नम्बर पर लड़की से बात करता है, वह आत्महत्या की तरफ़ बढ़ने लगता है।

मोमो का मक़सद है लोगों के मन में डर पैदा करना:

2016 में वायरल हुए ब्लू व्हेल चैलेंज को लोग अभी पूरी तरह से भूले नहीं थे कि momo whatsapp आ गया। बताया जा रहा है कि यह बिलकुल उसी तरह का है। जानकारी के अनुसार सबसे पहले इस प्रोफ़ाइल को फ़ेसबुक पर देखा गया था। इसके बाद कई लोगों ने इस प्रोफ़ाइल पर कांटैक्ट करने की कोशिश भी की थी। मोमो की प्रोफ़ाइल में जिस लड़की की तस्वीर दिखाई दे रही है, उसका चेहरा बिलकुल 2016 में जापान के एक संग्रहालय में प्रदर्शित की गयी मूर्तिकला से मिलता-जुलता है। जानकारी के अनुसार मोमो का मक़सद लोगों के मन में डर पैदा करना है।

ख़तरा बढ़ गया है और भी ज़्यादा:

 momo whatsApp
Source: Daily mail

psafe.om ने DFNDR LAB की डायरेक्टर के हवाले से लिखा है कि, ‘सोशल मीडिया पर तेज़ी से वायरल हो रहे इस नम्बर के बाद ठीक इसी तरह की प्रोफ़ाइल को कई लोगों ने बना लिया है। जिससे ख़तरा और भी ज़्यादा बढ़ गया है।’ लैब के सिक्योरिटी एक्स्पर्ट्स ने मोमो के नम्बर को सेव करके बात करने की कोशिश की, लेकिन कोई जवाब नहीं मिला। ऐसे में यह पता लगाना बहुत मुश्किल है कि आख़िरकार इसका रचयिता कौन है। जब तक इसके बारे में पता नहीं चल जाता है कि इसको बनाया किसने है, इसको रोक पाना मुश्किल है।

कई बच्चों ने दी दी थी अपनी जान:

आपको तो पता ही होगा कि 2016 में ख़ूनी खेल ब्लू व्हेल चैलेंज के सबसे ज़्यादा शिकार बच्चे ही थे। कई बच्चों ने इस चैलेंज की वजह से अपनी जान भी दे दी थी। इस तरह की कोई भी चीज़ सबसे पहले बच्चों को अपना शिकार बनाती है। ब्लू व्हेल के समय भी यही हुआ था। कई बच्चों ने अपने माँ-बाप को बताए बग़ैर ही ब्लू व्हेल चैलेंज को स्वीकार कर लिया और अंत में अपनी जान दे दी। इसलिए इस तरह की चीज़ों से सबसे पहले बच्चों को बचना ज़रूरी होता है।

momo whatsApp से अपने बच्चों को इस तरह से बचाएँ:

*- सबसे पहले अपने कांटैक्ट लिस्ट में उसी नम्बर को सेव करें जो आपके जानने वालों के हों। अगर आपके बच्चों के पास फ़ोन हो तो उसमें पैटर्न लॉक लगाएँ, जिसे आप आसानी से खोल सकें।

*- कई बार कुछ लोग अजनबियों से भी अपना नम्बर एक्सेचेंज कर लेते हैं, जो बाद में मुसीबत की वजह बनता है। जिन्हें आप नहीं जानते हों, उनसे नम्बर एक्सेचेंज भूलकर भी ना करें।

*- अगर आपके बच्चे सोशल मीडिया अकाउंट का इस्तेमाल करते हैं तो उनके अकाउंट्स पर नज़र बनाए रखें कि वो क्या शेयर कर रहे हैं। ख़ासतौर से उनके फ़ोन नम्बर के बारे में ज़रूर देखें। क्योंकि सोशल मीडिया पर आसानी से कोई भी फ़ोन नंबर ले सकता है।

*- अपने फ़ोन को एंटी वायरस से बचाएँ। इसकी वजह से जब आप अपनी मोबाइल में कोई लिंक खोलेंगे तो पॉप-अप नहीं आएगा। इसके साथ ही एंटी वायरस आपके वाट्सएप, एसएमएस और फ़ेसबुक मैसेंजर को भी प्रटेक्ट करता है।


यह भी पढ़े: 

 

 

 

 

Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More