THE ADDA | Hindi News - Breaking News, Viral Stories, Indian Political News In Hindi

सरकार को घेरने की रणनीति बनाने के लिए दिल्ली में जुटेंगी भाजपा विरोधी पार्टियाँ

कांग्रेस के ऊपर है सबसे बड़ी ज़िम्मेदारी

0 5,124

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

अगले साल 2019 में लोकसभा चुनाव होने वाले हैं। भाजपा की स्थिति अभी भी काफ़ी मज़बूत बनी हुई है। इसकी वजह से विपक्ष की पार्टियों को यह पहले से ही ज्ञात है कि भाजपा को रोकना किसी पार्टी के अकेले की बात नहीं है। इसको ध्यान में रखकर देश की सभी विपक्षी पार्टियाँ जो भाजपा की विचारधारा से सहमत नहीं हैं वो एक हो रही हैं। जानकारी के अनुसार भाजपा के ख़िलाफ़ महागठबंधन की रूपरेखा तय करने के लिए विपक्षी पार्टियाँ 22 नवम्बर को दिल्ली में जुटेंगी।

 

राहुल गांधी के दूत के रूप में आए थे गहलोत:

naidu-says-oppn-parties-to-meet-on-nov-22-to-further-discuss-forging-anti-bjp-platform

बता दें महागठबंधन की क़वायद में जुटे तेलुगु देसम पार्टी के अध्यक्ष और आंध्रा प्रदेश के मुख्यमंत्री एन. चंद्रबाबू नायडू ने शनिवार को कांग्रेस महासचिव अशोक गहलोत के साथ मुलाक़ात के बाद प्रेस कॉन्फ़्रेन्स करके यह जानकारी दी। गहलोत उनके पास कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की दूत के रूप में आए थे। पाँच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव भी 12 नवम्बर से शुरू हो रहे हैं। इन पाँच राज्यों में किस पार्टी की सरकार बनती है, यह भी लोकसभा चुनाव में काफ़ी महत्व रखेगा।

 

गठबंधन बनाने के लिए मिल चुके हैं कई लोगों से:

नायडू ने प्रेस कॉन्फ़्रेन्स में कहा कि वे 19 या 20 नवम्बर को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से मिलेंगे। नायडू ने यह दावा किया कि, महागठबंधन भाजपा विरोधी बड़ा प्लेटफ़ॉर्म होगा। यह देशहित में होगा। इसका उद्देश्य लोकतंत्र, राष्ट्र और राष्ट्रीय संस्थाओं की रक्षा करना होगा। यही हमारा राष्ट्रीय एजेंडा है। तेलुगु देशम पार्टी के प्रमुख नायडू ने हाल ही में कांग्रस अध्यक्ष राहुल गांधी, शरद पवार, फ़ारूख अब्दुल्ला, पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौडा, कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी और द्रमुक अध्यक्ष एमके स्टालिन के साथ भाजपा विरोधी गठबंधन बनाने के मुद्दे पर मिल चुके हैं।

 

कांग्रेस के ऊपर है सबसे बड़ी ज़िम्मेदारी:

naidu-says-oppn-parties-to-meet-on-nov-22-to-further-discuss-forging-anti-bjp-platform

नायडू ने आगे प्रेस कॉन्फ़्रेन्स में कहा कि, अब तक मैं लगभग सबसे मिल चुका हूँ। सबको आश्वस्त कर चुका हूँ। कांग्रेस देश की सबसे बड़ी विपक्षी पार्टी है। उसके ऊपर ज़्यादा ज़िम्मेदारी है। हमें इसे स्वीकार करना होगा। नई दिल्ली की बैठक महागठबंधन की रूपरेखा तय करेगी। अब दो ही प्लेटफ़ॉर्म हैं। राजनीतिक दलों को यह तय करना होगा कि वो किस तरफ़ हैं। अभी कुछ दल हमारे साथ हैं। कुछ विधानसभा चुनावों की बाद आ जाएँगे और कुछ लोकसभा चुनाव के बाद शामिल होंगे। सीटों का बँटवारा बाद में किया जाएगा।

 

कोई भी ख़ुश नहीं है मोदी सरकार से:

इस दौरान गहलोत ने भाजपा सरकार पर गम्भीर आरोप लगाए हैं। उन्होंने कहा, संस्थानों को बर्बाद और संविधान को कमज़ोर किया जा रहा है। जनता भयभीत है। पिछले चार साल में कोई भी समुदाय केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार से ख़ुश नहीं है। भाजपा विरोधी महागठबंधन के लिए यह सबसे सही समय है। तेलंगाना विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की नेतृत्व वाले महागठबंधन में शामिल दलों की सीट बँटवारे के मुद्दे पर शनिवार को बैठक हुई। इसमें भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी ने और सीटों की माँग की। बता दें महागठबंधन में कांग्रेस, तेलुगु देसम पार्टी, भारतीय कम्युनिस्ट और तेलंगाना जन समिति शामिल हैं।

 

 


 

Loading...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Loading...

- Advertisement -

Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More