THE ADDA
THE ADDA: Hindi News, Latest News, Breaking News in Hindi, Viral Stories, Indian Political News

सावन में इन तीन चीज़ों के करने से बढ़ती है पति की आयु, भगवान शिव करते हैं ख़ुद रक्षा

भगवान शिव को भांग, बेलपत्र और धतूरा है बहुत पसंद

71

सावन का पवित्र महीना चल रहा है। सावन का यह महीना 26 अगस्त के दिन ख़त्म हो जाएगा। सावन के इस महीने में भगवान शिव की पूजा हर जगह की जाती है। सावन के महीने को 12 महीनों में से सबसे पवित्र महीना माना जाता है। इस महीने को लेकर कई तरह की कहानियाँ भी प्रचलित हैं। सावन के महीने के बारे में कहा जाता है कि इसी महीने में भगवान शिव अपना कैलाश पर्वत का ठिकाना छोड़कर एक महीने के लिए पृथ्वी पर निवास करते हैं। पृथ्वी पर आनें की वजह से उनके और भक्तों के बीच की दूरी बहुत कम हो जाती है।

 

शिवभक्त भगवान को ख़ुश करने के लिए करते हैं तरह-तरह के उपाय:

god shiva

हिंदू धर्म में सप्ताह का हर दिन किसी ना किसी देवता को समर्पित है। सोमवार का दिन भगवान शिव को समर्पित किया गया है। सोमवार के दिन शिवभक्त भगवान की पूजा करते हैं। लेकिन सावन के सोमवार का ख़ास महत्व माना गया है। सावन के सोमवार की तुलना किसी चीज़ से नहीं की जा सकती है। एक तो सावन का पूरा महीना भगवान शिव का ऊपर से सोमवार का दिन भी उनका है। इसलिए सोमवार के दिन विशेष उपाय करने से व्यक्ति के जीवनभर के कष्ट मिट जाते हैं। भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए शिवभक्त सावन में तरह-तरह के उपाय करते हैं।

 

भगवान शिव को भांग, बेलपत्र और धतूरा है बहुत पसंद:

सावन के महीने में शिवभक्त दूर-दूर से जल लाकर भगवान शिव को अर्पित करते हैं। कहा जाता है कि भगवान शिव को बहुत ज़्यादा चढ़ावा चढ़ाने की ज़रूरत नहीं पड़ती है। यह केवल एक लोटे जल से भी काफ़ी प्रसन्न होते हैं। इसी वजह से भक्त इन्हें जल अर्पित करते हैं। भगवान शिव को जल के साथ ही भांग, धतूरा, बेलपत्र भी बहुत पसंद है। सावन के महीने में जल के साथ ये चीज़ें अर्पित करने से भगवान शिव आती प्रसांन होते हैं। इसी वजह से भक्त इन चीज़ों से भगवान शिव का अभिषेक करते हैं। शिवपुराण में शिव की महिमा का गुणगान किया गया है।

 

बहुत जल्दी सुन लेते हैं भक्तों की पुकार:

भगवान शिव को तृदेवों में से विनाश के देवता कहा जाता है। ब्रह्मा जी इस ऋष्टि के रचयिता है, वहीं भगवान विष्णु ऋष्टि के पालनहर्ता है जबकि शिव को ऋष्टि का विनाशक कहा जाता है। भगवान शिव वैसे तो बहुत भोले हैं, लेकिन जब एक बार इन्हें ग़ुस्सा आ जाता है तो इनके ग़ुस्से को शांत करवा पाना किसी के बस की बात नहीं है। जब भगवान शिव बहुत ज़्यादा ग़ुस्से में होते हैं तो इनका त्रिनेत्र खुल जाता है और सबकुछ जलकर ख़ाक हो जाता है। हालाँकि भगवान शिव ने कई बार इस पृथ्वी की रक्षा भी की है। यह अपने भक्तों की हर पुकार को बहुत जल्दी सुन लेते हैं।

 

सावन में हर रंग धारण करना होता है बहुत शुभ:

god shiva

सावन के महीने में जिधर देखो उधर हरियाली ही दिखाई देती है। तपती गर्मी से राहत पाकर इंसान, जानवर और प्रकृति को भी काफ़ी आराम मिलता है। इसी महीने में प्रकृति का रूप भी निखरकर सामने आता है। सावन में सभी लोग भगवान शिव की पूजा करते हैं। महिलाओं के लिए सावन महीने का ख़ास महत्व होता है। शादीशुदा महिलाएँ ख़ास तरह से ऋंगार करती हैं। इस महीने में महिलाएँ हरे रंग के वस्त्र, चुडियाँ और मेहंदी लगाती हैं। कहा जाता है कि सावन के महीने में हरे रंग का ख़ास महत्व होता है। धार्मिक दृष्टि से भी सावन के महीने में हर रंग धारण करना बहुत शुभ माना जाता है।

 

भगवान शिव स्वयं करते हैं रक्षा:

लड़कियाँ भी भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए सावन में सोमवार का व्रत रखती हैं। मान्यता के अनुसार इससे उन्हें मनचाहे वर की प्राप्ति होती है। सावन के महीने के बारे में यह भी कहा जाता है कि कुछ ख़ास उपाय करने से भगवान शिव के आशीर्वाद से व्यक्ति की उम्र भी बढ़ती है। भगवान शिव स्वयं ही रक्षा करते हैं। आज हम आपको कुछ ऐसे ही उपायों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिहे स्त्रियाँ करें तो उनके पति की आयु दुगुनी होती है। उनके ऊपर कोई आँच नहीं आती है। भगवान शिव स्वयं उनकी हर मुसीबत से रक्षा करते हैं। सभी शादीशुदा महिलाओं को अपने पति की लम्बी आयु के लिए यह उपाय ज़रूर करने चाहिए। लड़कियाँ भी भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए सावन में सोमवार का व्रत रखती हैं। मान्यता के अनुसार इससे उन्हें मनचाहे वर की प्राप्ति होती है।

 

सावन में करें ये उपाय:

    • सावन के महीने में किसी भी दिन सूर्योदय से पहले जागकर स्नान आदि करके पवित्र हो जाना चाहिए। नहाते समय पानी में थोड़ा नमक मिलकर नहाएँ। सब तरह से पवित्र हो जानें के बाद भगवान शिव की आरती करें और उन्हें गुड़ चावल का भोग लगाएँ। पूजा सम्पन्न होने के बाद गुड़ और चावल को पति-पत्नी दोनो मिलकर खाएँ। ऐसा माना जाता है कि यह करने से पति-पत्नी के बीच प्रेम बढ़ता है और पति सभी तरह की बुरी नज़र से भी बचता है।

god shiva

    • महिलाएँ सोमवार के दिन भगवान शिव की विशेष पूजा करें। भगवान शिव की पूजा के दौरान ताम्बे के बर्तन में शुद्ध जल, दूध, केसर और हल्दी मिलाकर इसे शिवलिंग पर चढ़ाएँ। जब यह शिवलिंग से बहकर नीचे की तरफ़ आए तो इसकी कुछ बूँदे अपने पति के कंठ पर लगा दें। ऐसा माना जाता है कि ऐस करने के बाद भगवान शिव पति की आयु में वृद्धि करते हैं और इससे उनका स्वास्थ्य भी ठीक रहता है।

 

  • सावन में किसी भी दिन पति-पत्नी दोनो मिलकर एक साथ पीपल के पेड़ की पूजा करें। हिंदू धार्मिक मान्यता के अनुसार पीपल के पेड़ में सभी देवी-देवताओं का वास होता है। इसके लिए आटे से बने हुए दीपक में घी डालकर दिया जलाएँ। इसके साथ ही हल्दी, कुमकुम और चावल से पीपल के पेड़ की पूजा करें। जब पूजा ख़त्म हो जाए तो पति-पत्नी मिलकर मौलि का धागा पीपल के पेड़ के चारों तरफ़ बाँधते हुए पीपल के पेड़ की 7 बार परिक्रमा करें। आख़िर में भगवान शिव के दर्शन करें। ऐसा करने से दोनो के रिश्तों में प्यार बढ़ेगा और भगवान शिव रक्षा भी करेंगे।

 


और पढ़ें:

 

 

 

 

 

Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More