THE ADDA
THE ADDA: Hindi News, Latest News, Breaking News in Hindi, Viral Stories, Indian Political News

माल्या के ख़ुलासे के बाद राहुल का भाजपा पर निशाना, जाँच कराएँ पीएम, इस्तीफ़ा दें वित्तमंत्री

भगोड़े के साथ लुटेरों का विकास, भाजपा का लक्ष्य

4,832

देश के कई बैंकों का पैसा लेकर भागने वाले भगोड़े विजय माल्या को तो आप सभी लोग जानते ही हैं। विजय माल्या ने हाल ही में एक बयान दिया, जिससे देश की राजनीति काफ़ी गरमा गयी है। जानकारी के अनुसार देश छोड़ने से पहले भगोड़ा विजय माल्या वित्तमंत्री अरुण जेटली से मिला था। ऐसा किसी और ने नहीं बल्कि ख़ुद माल्या ने बताया है। उसके इस दावे के बाद कांग्रेस ने भाजपा पर जमकर निशाना साधा है। कांग्रेस ने कहा कि इस मामले की पूरी जाँच होनी चाहिए।

 

सबकुछ पता होने के बाद क्यों जानें दिया गया देश से बाहर:

vijay mallya meets arun jaitley

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने माल्या के बयान के बाद भाजपा से वित्तमंत्री अरुण जेटली के इस्तीफ़े की माँग की है। राहुल गांधी ने ट्वीट करके कहा कि माल्या द्वारा लगाए गए आरोप बेहद ही संगीन हैं। राहुल गांधी ने यह भी कहा कि इस मामले में तत्काल पीएम मोदी को जाँच करवानी चाहिए। जाँच प्रक्रिया पूरी होने तक अरुण जेटली को वित्तमंत्री के पद से इस्तीफ़ा देना चाहिए। बता दें इससे पहले पार्टी प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि माल्या के बारे में सबकुछ पता होने के बावजूद उसे देश के बाहर क्यों जानें दिया गया?

 

होना चाहिए मामले का पूरा ख़ुलासा:

कांग्रेस प्रवक्ता सिंघवी ने भाजपा पर हमला करते हुए कहा कि, ‘कांग्रेस बार-बार कहती आ रही है कि माल्या, नीरव मोदी और कई अन्य लोगों को जानबूझकर देश से बाहर जानें दिया गया है। माल्या ने जो भी कहा है, उस पर वित्तमंत्री की तरफ़ से स्पष्ट और विस्तृत जवाब आना चाहिए। सिंघवी ने आगे कहा कि, माल्या ने दो चीज़ें कही हैं। पहली यह की उसने वित्तमंत्री से व्यवस्थित मुलाक़ात की थी और दूसरी यह कि उसने मामले को सुलझाने की पेशकश की थी। कांग्रेस ने कहा कि इस मामले का पूरा ख़ुलासा होना चाहिए। इसपर व्यापक स्पष्टीकरण आना चाहिए और व्यापक जाँच होनी चाहिए।

 

भगोड़े के साथ लुटेरों का विकास, भाजपा का लक्ष्य:

उन्होंने आगे कहा कि यह स्पष्ट होना चाहिए कि क्या यह मुलाक़ात चलते-फिरते ढंग से हुई है, यह व्यवस्थित ढंग से मुलाक़ात हुई थी। कांग्रेस नेता ने आगे सवाल किया कि जब बैंकों को मालूम था, वित्त मंत्रालय को मालूम था, पूरी सरकार को मालूम था और माननीय प्रधानमंत्री जी को मालूम था कि माल्या पर इतना बड़ा क़र्ज़ बक़ाया है तो उसे देश से बाहर कैसे जानें दिया गया। यह बुनियादी सवाल है, जिसका जवाब पूरा देश जानना चाहता है। भगोड़े के साथ लुटेरों का विकास भाजपा का एकमात्र लक्ष्य है।

 

अरुण जेटली से मिलकर विदाई लेकर देश से भाग माल्या:

vijay mallya meets arun jaitley

माल्या के ख़ुलासे के बाद कांग्रेस के कई नेताओं ने ट्वीट करके मोदी सरकार और नरेंद्र मोदी की जमकर चुटकी ली है। वहीं कई आम लोगों ने भी मोदी सरकार पर निशाना साधा है। माल्या के ख़ुलासे के बाद कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट करके कहा कि, ‘भगोड़े का साथ, लुटेरों का विकास’ भाजपा का एकमात्र लक्ष्य है। उन्होंने आगे कहा कि मोदी जी, अपने ललित मोदी, नीरव मोदी, हमारे मेहुल भाई, अमित भटनागर जैसे देश के करोड़ों रुपए लुटवा विदेश भगा दिया। विजय माल्या तो श्री अरुण जेटली जी से मिलकर, विदाई लेकर देश का पैसा लेकर भाग गया है। चौकीदार नहीं भागीदार है।

 

2014 के बाद से कभी नहीं मिले माल्या से:

vijay mallya meets arun jaitley

आपकी जानकारी के लिए बता दें भगोड़े विजय माल्या ने बुधवार को कहा कि वह भारत से रवाना होने से पहले वित्तमंत्री अरुण जेटली से मिला था। लंदन में वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट की अदालत में पेश होने के लिए पहुँचे विजय माल्या ने कहा कि उसने मंत्री से मुलाक़ात की थी और बैंकों के साथ मामले का निपटारा करने की पेशकश की थी। वहीं वित्तमंत्री अरुण जेटली ने माल्या के बयान को झूठा क़रार देते हुए कहा कि उन्होंने 2014 के बाद से माल्या से कभी नहीं मिले। अरुण जेटली ने कहा कि माल्या राज्यसभा सदस्य के तौर पर हासिल विशेषाधिकार का दुरुपयोग करते हुए संसद भवन के गलियारे में उनके पास आ गया था। हालाँकि उसकी पेशकश को वित्तमंत्री की तरफ़ से ठुकरा दिया गया था।

 

 


यह भी पढ़े:

 

 

 

 

 

 

 

Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More